Open post

7 Day Startup !! मात्र सात दिनों में अपना खुद का बिज़नस कैसे शुरू करें ?

Reading Time: 1 minute

आइये जानते है कि कैसे मात्र सात दिनों में आप अपना खुद का बिज़नस शुरू कर सकते हो।

आज कि पोस्ट आधारित है, “7 Day Startup” नाम कि किताब से, आप इस किताब के सारांश कि वीडियो देखें एवं मात्र 11 मिनट में आपको काफी कुछ पता चल जाएगा।

इन जानकारियों को अछे से पढ़ने एवं अपने जीवन में अमल करने के लिए इस किताब को amazon से खरीद सकते हो।

धन्यवाद !!

Open post

डिप्रेशन (Depression) या अवसाद, आओ बात करें, क्या है, पहचान के लक्षण, कारण एवं उपचार। #Depression, #symptoms

Reading Time: 4 minutes

डिप्रेशन (Depression) या अवसाद, सिर्फ मन की एक स्थिति ही नहीं , एक जानलेवा बीमारी भी हो सकती है।

World Health Organization ( WHO )  द्वारा स्वास्थ्य की परिभाषा के अनुसार:  

“स्वास्थ्य वह अवस्था है,  जिसमे व्यक्ति अपने आपको शारीरिक, मानसिक, सामाजिक ओर आध्यात्मिक रूप से सुखी महसूस करता है । इस तरह न सिर्फ शारीरिक बल्कि मानसिक एवं आध्यात्मिक स्वस्थता भी स्वास्थ्य के बहुत उपयोगी है।“

डिप्रेशन (Depression) पे हमारी शार्ट वीडियो के माध्यम से इसके पहचान की सम्पूर्ण जानकारी पाएँ।।

डिप्रेशन (depression अवसाद ) मानसिक बीमारियों मै से एक है जो सिर्फ मानसिक कमजोरी , सुस्ती ,व्यक्तिगत असफलता या इच्छा शक्ति की कमी का परिणाम नहीं है।

            डिप्रेशन देवी –देवताओ के प्रकोप , भूत –प्रेत ,जादू –टोना आदि के परिणाम स्वरूप नहीं होता। अन्य शारीरिक बीमारियों की तरह ही डिप्रेशन के भी मानसिक एवं शारीरिक लक्षण पाये जा सकते है। डिप्रेशन का प्रभावी इलाज अवश्य हो सकता है ओर सुखद जीवन जी सकते है ।

डिप्रेशन  (अवसाद Depression ) किसे कहते है ? आओ बात करें !!

सामान्य तौर पर डिप्रेशन (अवसाद ) को निम्न संदर्भ मै प्रयोग किया जाता है :

  • लंबे समये तक लगातार और नकारात्मक सोच या दु :खी  मनोदशा ,जो किसी के भी जीवन को कई तरह से प्रभावित करती है या
  • जिन गतिविधियों मे व्यक्ति रुचि और खुशी पाता था उनमें दिलचस्पी न रहना ।

प्रत्येक व्यक्ति समय –समय पर डिप्रेशन और उदासी का अनुभव करता है। कई लोग एक बार या ज्यादा लेकिन अपने आपमे छोटी और सीमित अवधि के लिए डिप्रेशन का अनुभव तो करते ही है । जब इस तरह की संवेदनशीलता या भावुकता अधिक समय तक रहती है ,व्यापक होती है और बार –बार सामने आती है तब व्यक्ति  डिप्रेशन से प्रभावित हो सकता है ।

डिप्रेशन depression मानसिक कमजोरी या चारित्रिक दोष की निशानी नहीं है। डिप्रेशन सुस्ती ,कमजोरी व्यक्तिगत असफलता या इच्छा शक्ति की कमी का परिणाम नहीं है। हालांकि डिप्रेशन शब्द के कई अर्थ होते है, मनोचिकित्सा के संदर्भ मै रोगी द्वारा उनकी भावात्मक पीड़ा की अनुभूति का वर्णन किया जाता है और इस अर्थ मै यह एक लक्षण – समूह है ।

depression-ntडिप्रेशन depression के मुख्य लक्षण क्या हैं ?    

डिप्रेशन आम तौर पर पाई जानी वाली चिकित्सीय बीमारी (medical illness) है जो बहुत ही विशिष्ट लक्षण रखती हैं । डिप्रेशन मै कुछ निम्न लक्षण होते हैं । प्रत्येक व्यक्ति मै एक जैसे ही लक्षण नहीं होते है । डिप्रेशन के लक्षण किसी भी अन्य बीमारियों की तरह व्यक्तिगत रूपसे भिन्न हो सकते हैं ।

1 . मानसिक लक्षण :

  भावनात्मक और व्यावहारिक लक्षण:

  • लगातार उदासी या खालीपन (दो सप्ताह से अधिक के लिए ) । यह एक मुख्य प्रकट और विशिष्ट लक्षण हैं ।
  • असंगत ग्लानि महसूस करना ।
  • मिजाज का आगा –पीछा होना ।
  • आसान बात भी भूल जाना ।
  • कमजोर एकाग्रता , अन्यमनस्कता , अनिश्चितता ।
  • उन गतिविधियों मैं रुचि न लेना जिनमे पहले थी ।
  • अकेलापन महसूस करना, भावशून्यता, अन्य व्यक्तियों और नई परिस्थितियों से अपने आप अलग करना ।
  • चिंता, घबराहट, तुच्छ बातों पर चिड़चिड़ाना ।
  • अपने लक्ष्यों के प्रति निरुत्साहित होना ।
  • स्वयं के शरीरिक बाह्य दिखाव मे रुचि खो देना ।
  • नशे या शराब की ओर झुकाव ।

  विचार /अनुभूति जो स्वयं की असफलता के लिए हो सकते हैं :

  • असफलता संबंधी विचार ।
  • आत्माभिमान की कमी । लगातार अपने आपको कोसना ।
  • शीघ्र निराश होना।
  • असहयोग ,निराशा और निकम्मापन के विचार ।
  • दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओ के लिए स्वयं को जिम्मेदार ठहरना ।
  • भविष्य के लिए नकारात्मक और निराशावादी अपनाना ।
  • यदि डिप्रेशन बहुत तीव्र है तो इसके साथ मतिविभ्र्म और मिथ्याविचार भी जुड़े होते है । सामान्यत: ये डिप्रेश्ड (अवसादित) मनोदशा के साथ होते हैं और अपराध ,व्यक्तिगत अपर्यापता या रोग के विचारों पर केन्द्रित हो सकते हैं ।

2. शारीरिक लक्षण :-

  • सामान्य नींद की प्रक्रिया मे विघ्न पैदा होना (अधिकतर नींद का न आना, नींद का बार बार खुल जाना या प्रात: नींद उठ जाना और सामान्य नींद से अधिक सोना ) ।
  • मंदगति होना – जैसे बोलने ,घूमने आदि मे मंद होना। परिवार के सदस्य या घनिष्ठ मित्र इस परिवर्तन को पहचानते हैं। हालांकि दूसरी ओर कुछ लोगों मे विपरीत लक्षण दिखाई देते हैं जैसे बैचेनी और अशांति ।
  • भूख मे कमी और लगातार वजन कम होना या अधिक भोजन करना (चैन पाने के लिए भोजन ) परिणाम स्वरूप वजन का बढ़ना ।
  • थकावट महसूस करना या शीघ्र थकान आना ।
  • अजीर्ण (अपच) ,मुंह का सुखना ,मतली आना ,कब्ज और अतिसार ।
  • मासिक धर्मचक्र मे अनियमितता ।
  • यौवन क्रियाओं में कम भाग लेना ।
  • लगातार सरदर्द , पेटदर्द, कमरदर्द , छाती-दर्द , पैरो और जोड़ो मे दर्द , भारीपन और पैरो मे पसीना आना ,श्वास लेने मैं कठिनाई आदि ।

डिप्रेशन के ये लक्षण कम से कम दो सप्ताह की अवधि के होने चाहिए और व्यक्ति को तकलीफ देह या सामाजिक जीवन या दैनिक कामकाज मे परेशानी करने वाले होने चाहिए । जिसके आधार पर डॉक्टर के द्वारा इस बीमारी का मुख्य निदान किया जा सकता है।

अधिक जानकारी के लिए आप ऊपर दी गयी Video देख सकते हो जिसमें हमने डिप्रेशन के लक्षणों की पहचान के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी दी है।

संदेश :-

            Article पढ़ने के लिए आप सभी का बहुत – बहुत आभार। इस जानकारी को खुद समझें एवं इसे share कर औरों को बताएं या समझाएँ। आपके आसपास इस प्रकार के विकार से अगर कोई पीड़ित हो (Depression) तो उसे हमारी इसी वेबसाइट के जरिये ऑनलाइन अपॉइंटमेंट करवाकर, जल्द से जल्द स्वास्थ्य लाभ प्रदान करवायें ।

अगर आप चिंता विकार से परेशान है तो यहाँ क्लिक कर वेबिनार जॉइन करें । 

depression

Thank You !!

Open post

ध्यान या मेडिटेशन को जानें।। बुद्ध या स्वामी विवेकानन्द की तरह।। Learn Basic Meditation.

Reading Time: 2 minutes

क्या आप बुद्ध या स्वामी विवेकानन्द की तरह Meditation करने या सीखने के लिए इच्छुक हो ?

अगर हाँ तो ये पोस्ट आपके लिए है। विवेकानंद जी ने कहा था कि “किसी बात से डरो मत। तुम अद्भुत कार्य करोगे। जिस क्षण तुम डर जाओगे, उसी क्षण तुम बिल्‍कुल शक्‍तिहीन हो जाओगे”। “कभी मत सोचिए कि आत्मा के लिए कुछ असंभव है, ऐसा सोचना सबसे बड़ा विधर्म है। अगर कोई पाप है, तो वो यह कहना है कि तुम निर्बल हो या अन्य निर्बल हैं”।

जिंदगी की परेशानियों से नहीं डरना, हमेशा सबल रहना ही आसान भाषा में उत्तम मानसिक स्वास्थ्य है।

🙏अब बात इस पोस्ट की !!🙏 मेरे देश के युवाओ !! आप ही इस देश का कल हो, इस देश का भाग्य हो, यकीनन सौभाग्य हो।

आप विवेकानन्द या बौद्ध की फ़ोटो देखते होंगे, तो आपको इनमें ज्यादातर ध्यान या Meditation का Posture दिखता होगा।

जैसे ऊपर दी गयी फोटो में है, साथियों ये क्या है ?? थोड़ा explain करता हूँ।
ये ध्यान या Meditation की State है जिसे State of Mindfulness भी कहा जाता है।
ध्यान आपके Mind को निर्मल करता है, पॉजिटिव emotions लाता है, आपकी efficiency बढ़ाता है, विचारों में पॉजिटिविटी के साथ ज्यादा clearity लाता है, आपके लक्ष्यों को हासिल करने का धैर्य आने लगता है, दुनिया को देखने का नजरिया बदलने लगता है, आप सत्य के ज्यादा पास पहुंचने लगते हो, यानि आप उन विचारधारोंओं को छोडने लग जाते हो जो वास्तव में अपनी जिंदगी में महत्व नहीं रखती

अतः इसके लिए The Youth Needs The Real Truth !! कहना ज्यादा सही होगा।।
Social media के दौर में सच्चाई तक पहुँचने का कष्ट करें, आपके मोबाइल, TV, यूट्यूब पे आने वाली हर एक सूचना को सही मानने से पहले अपनी तार्किक शक्ति का इस्तेमाल करें।।

धैर्य की बात करें, तो युवाओं के लिए ये बहुत जरूरी है, आपकी यही वो उम्र है जिसमें आप वो सभी स्किल सीख सकते हो जो आपके एवं आपके परिवार के ज़िंदगी भर काम आएगी, स्किल सीखने में सबसे बड़ा योगदान आपका ध्यान है, आज social media आपके ध्यान यानि फोकस का सबसे बड़ा शत्रु है। इसी लिए अगर आप मेडिटेशन करते हो तो आप अपने माइंड को कंट्रोल करोगे ना कि आपके social मीडिया कि नोटिफ़िकेशन। तभी विवेकानंद जी की इस बात पे आप चल पाओगे कि “उठो, जागो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य ना प्राप्त हो जाए”।

तो आइए इस विडियो से जानते है, मेडिटेशन के फायदे , इसका बेसिक सिद्धांत एवं इसको करने की आसान विधि ।।

बोधिज़्म में ध्यान की विप्श्यना विधि के द्वारा मानसिक स्वास्थ्य को उतम करके, तार्किक सोच को बढ़ावा दिया जाता है, जो उस इंसान एवं उसके परिवार को अंधविश्वास के चक्करों से दूर कर, प्रगति के मार्ग में तीव्र गति से चलने को मजबूर कर देती है। आप ध्यान की विप्श्यना विधि के बारे में यहाँ क्लिक कर जान सकते हो। ये इतनी प्र्भावी है कि विप्श्यना करवाने वाले सेंटर किसी से फीस नहीं लेते, इससे होने वाले फ़ायदों को देखकर लोग उन्हे खुल के donate करते है।

खैर मुद्दे पे आयें तो ये मेरी पोस्ट यूथ के नाम है, आप स्वतंत्र भारत के नागरिक हो, अपने Mind को भी आजाद करो, सिर्फ आपका Mind (Power of Your Mind) ही है जो आपके लिए असीमित सम्भावनाये, अवसर की खोज कर सकता है।। इसका ध्यान रखिये।।
Be Mindful….. Be Meditate. जय भारत, जय संविधान।।

#Mindbook.😊 THANK-YOU !!

 

Open post

जानिए जापान की काइजेन (Kaizen) तकनीक जिससे ये देश बहुत जल्द विश्व आर्थिक शक्ति बन सका । Japanese Business Tool Kaizen

Reading Time: 1 minute

काइजेन (Kaizen in Business) तकनीक किसी भी इंसानी दिमाग को कामधंधे  के लिए बेहतर अनुकूल करने के लिए बनाई गई है।

जिसका लोहा पूरी दुनिया मान चुकी है। आप भी इस पोस्ट एवं वीडियो से इसके बारे में जान पाओगे। काइजेन यानी “अच्छे के लिए थोड़ा सा सुधार” । इसके अनुसार अगर आप रोज अपने लक्ष्यों के लिए, अपनी बेहतर जिंदगी के लिए अपने अंदर थोड़ा-थोड़ा सुधार करोगे तो बहुत कम समय में आप खुद ये देख पाओगे कि आपने बिना किसी परेशानी के बहुत कुछ हासिल कर लिया।

देखिये Kaizen – अपने Business या जिंदगी में सुधार के लिए एक छोटा ही सही लेकिन रोज कदम बढ़ाएँ !!

इसी से जुड़ी ये एक ओर वीडियो से भी समझ सकते हो।

मानसिक स्वास्थ्य, नशा मुक्ति सेवाओं एवं रोजगार/बिज़नेस सम्बंधित समस्याओं के लिए आप ऑनलाइन अपॉइंटमेंट लेके हमसे संपर्क करें। Click here & Join Bheem- Expo Business Portal.

उम्मीद है आपको हमारी ब्लॉग पोस्ट अच्छी लगी होगी, अगर हाँ तो औरो को भी भेजिये।
धन्यवाद !!💐💐

Open post

वेब सेमिनार :- Anxiety Disorder यानी चिंता विकार, इसके प्रकार, लक्षण, दुष्प्रभाव, रोकथाम एवं उपचार ।

Reading Time: 1 minuteइस वेब सेमिनार के जरिये आप हिंदी में चिंता एवं फिक्र के अंतर को समझकर, इसकी पहचान, प्रकार, लक्षण, दुष्प्रभाव, रोकथाम एवं इसके उपचार में आने वाली विभिन्न विधियों को जान पायेंगे। Hindi Webinar on Anxiety & Stress.

ध्यान देने वाली बात ये है कि इसके द्वारा एक इंसान की कार्यक्षमता यानी उसका काम धंधा, बिज़नेस में बहुत ज्यादा गिरावट देखी गयी है, अतः इस विकार को इस वीडियो से ध्यानपूर्वक समझे 1।

आपके आसपास इस प्रकार के विकार से अगर कोई पीड़ित हो (Anxiety or Stress) तो उसे हमारी इसी वेबसाइट के जरिये ऑनलाइन अपॉइंटमेंट करवाकर, जल्द से जल्द स्वास्थ्य लाभ प्रदान करवायें ।

Open post

इन विडियो ये जानो, सभी बच्चे दिमागी कमजोर नहीं होते – बहुत सारे मानसिक बीमारी से ग्रसित हो सकते है।

Reading Time: 1 minute

आइये इन विडियो ये जानो, सभी बच्चे दिमागी कमजोर नहीं होते – बहुत सारे किसी मानसिक बीमारी (Specific Learning Disorder) से ग्रसित हो सकते है। जिनका बहुत हद तक इलाज संभव है, ये बीमारियाँ लगभग “Specific learning Disability” के अंतर्गत आती है।
ये उन बच्चो की कहानी है जिन्हें अक्सर दुनिया हाशिये पर छोड़ देती है। ये बच्चे सामान्य या सामान्य से भी ज्यादा बुद्धि लिए होते है, बस इनका दिमाग से काम लेने का तरीका अलग होता है। इनके लिए यही कहेंगे ;
“खो न जाइए। तारे जमीं पे”

1. इन बीमारियों का परिचय (Specific Learning Disorder in English).

2. हिन्दी डॉक्युमेंट्री (Specific Learning Disorder)

3. इनके कुछ लक्षण इस विडियो में (English).

4. Learning disabilities (Hindi).

5. जानिए इस दुनिया के कुछ फेमस लोगों के बारे में जो इन बीमारियों के शिकार थे (English).

पोस्ट पढ़ने के लिए धन्यवाद !!

हमसे परामर्श की एप्पोइंटमेंट के लिए यहाँ क्लिक करें ।।

अच्छी लगी तो शेयर करें ।।

Open post

जानिये नशा आखिर काम कैसे करता है ?

Reading Time: 4 minutes

smoking-1418483_1280

आप सभी addiction यानि नशे के बारे में काफी कुछ जानते होंगे लेकिन फिर भी सीमित शब्दों में कुछ ऐसी बातें लिखना चाहता हूँ, जो आज के youth के लिए बहुत जरूरी है।

Addiction या नशा दिमाग का दीमक है। चाहे छोटा हो या बड़ा ( निकोटिन यानी गुटखा, बीड़ी, सिग्रेट से लेके शराब, स्मैक, अफीम,हेरोइन, डोडा, भांग, कोकैन या MDMA, LSD आदि ) । ब्रेन पे इनका प्रभाव जिस प्रक्रिया से होता है वो यधपि एक जैसा नहीं है – स्मैक अलग method से कार्य करती है, शराब अलग तरीके से कार्य करती है ( Neurotransmitter level ) । लेकिन एक normal इंसान की जिंदगी को ये कैसे प्रभावित करते है ? इसे समझना बहुत आवश्यक है, ये प्रक्रिया जिसे मेडिकल Science “Reward System” कहती है ये हमारी जिंदगी का राज भी है।

ये राज कैसे हुआ ?? ये यूँ कि ये वो राज है जिसे अगर समझ जाये तो आपको पता चलेगा कि नशा हमें जो feeling दे सकता है, उससे कहीं ज्यादा आनंद हम ब्रेन के Reward system की Theory को समझके, उसे अपने जीवन में अमल करके ले सकते है। इसके लिए आप हमारी इस विडियो को देख सकते हो।

आप नशे की लत से पीड़ित व्यक्ति से ढंग से बात करके देखो, वो कुछ इस तरह कह सकते है कि साहब हमें ये क्या हो गया था कि Middle class family से होने के बावजूद भी हमने पिछले 10 सालों में लगभग 25 लाख शराब पे उड़ा दिए। इन पैसो का बहुत कुछ हो सकता था। माँ के इलाज में, बहनों की शादी में, घर बनाने में एवं ओर भी बहुत कुछ । अब खुद परेशान हूँ, मुझे Guilt होती है, मैं आजाद नहीं हूँ, मैं नशे का गुलाम हूँ और इससे बाहर निकलने की जंग में लगभग अकेला हूँ।।

इसे समझना ही राज है …आओ थोडा दिमाग लगाते है…..

human-1177413_1280          दोस्तों जितना बड़ा संसार आप बाहर देख रहे हो, उससे हीं ज्यादा बड़ा संसार आपके दिमाग (brain) में है। किसी कंप्यूटर के प्रोसेसर की तरह आपका ब्रेन हर वक्त कार्य करता है। आपके सोच – विचार , भावनायें और व्यवहार इसी पे निर्भर है। इसे थोड़ा विस्तार से समझे तो बुद्धि एवं मन (mind) में विभाजित किया जा सकता है। ये दोनों ( बुद्धि & मन ) एक दूसरे के पूरक है।

हमारा मन जिसे मेडिकल साइंस में Limbic system से समझाया जाता है। उसमें एक सेंटर होता है जिसे न्यूक्लियस accumbens कहते है। ये हमारी ख़ुशी, आनंद का आधार होता है। जब एक पिता अपने बच्चों के लिए 1 kg फल लेके आता है तो उसे जो ख़ुशी, जो feeling मिलती है वो यही Centre करवाता है। ये तो सिर्फ एक उदाहरण है ऐसे हजारो कार्य है जो हम सिर्फ इसलिए करते है कि ये सेंटर Activate हो और हमें आनंद की अनुभूति हो।

जैसे खाना, खेलना, मूवी देखना, डांस करना, दोस्त के साथ बातें करना यानी आपको जिस कार्य को करने के दौरान ख़ुशी या euphoria जैसा अहसास हो, समझ जाओ ये सेंटर आपके ब्रेन में Dopamine नामक रसायन ( Neurotransmitter ) से आपकी जिंदगी को खुशनुमा बना रहा है।।brain-954821_1280

अब बात करते है ये नशे कैसे कार्य करते है ??

ये नशे Direct हिट करते है इस सेंटर – “Nucleus Accumbens” को। प्रकृति ने खुशियों के लिए दिमाग में जो सर्किट बनाये। नशा इन्हें बाईपास करता है एवं बिना किसी वजह के Directly अपना प्रभाव दिखाके, इसे एक्टिवेट करता है। आसान भाषा में- गाँव में जब गाय या भैंस oxytocin हॉरमोन की कमी से दूध देना बंद कर देती है तो किसान Directly oxytocin हॉरमोन का injection लगाके दूध निकाल लेता है। यहाँ पे भी ठीक इसी तरह नशा इस center को डाइरैक्ट हिट कर dopamine release करवा, इंसान को आनंद, खुशी या रिवार्ड का अहसास करवाता है – यही Reward System का Bypass है।

यानी जो ख़ुशी किसी इंसान को घर में 2 kg सब्जी लाने से होती थी। आज वही या उससे ज्यादा ख़ुशी उसे एक शराब की बोटल लाने से होने लग गयी ओर सब्जी लाना एक बेवकूफी का सा काम लगने लगा।

उसके दिमाग के वो सारे सर्किट नैचुरल खुशी से संबन्धित थे, धीरे – धीरे नकारा होते जायेंगे और एक टाइम ऐसा आ जाता है कि घर, परिवार, बीवी, बच्चे, रिश्तेदार सब उसके लिए पराये से हो जाते है – प्यार रहता है तो एकमात्र नशे से, उसकी जिंदगी का एकमात्र यही सहारा रह जाता है। इसे मेडिकल Science – Drug Addiction कहती है एवं इसे एक बीमारी के तौर पे ठीक किया जाता है।

हाँ उसे अपनी इस स्थिति का अहसास होता है। उसे ये पता रहता है कि मैं जिस रस्ते पे चल रहा हूँ वो गलत है, मैं जो व्यवहार कर रहा हूँ वो गलत है। लेकिन ये उसकी मजबूरी हो जाती है जैसे किसी TB के मरीज को खाँसना एक मजबूरी है, ठीक वैसे ही।।

यहाँ पे एक सवाल – क्या इसे TB की तरह एक बीमारी माना जाना चाहिए ?   आप सोचिएगा !!

doctor-offering-hand-to-patient-partnership-58915674

आखिर एक संदेश :-

दोस्तो नशे पे अगर गहन स्तर पे सोचा जाए तो इसकी जड़ Reward System से जुड़ी है, एक इंसान अपने दोस्तों के साथ बिना किसी नशे के अपनी लाइफ enjoy करता है, वहीं दूसरी ओर एक को enjoy के लिए शराब का सहारा लेना पड़ता है, अगर ये सहारा ना हो तो कुछ कमी लगती है।

अतः आज आने वाली पीढ़ी को, खासकर कॉलेज, स्कूल्स के स्टूडेंट्स को एक special ट्रेनिंग की आवश्यकता है जो उन्हे बिना नशे के अपनी लाइफ की खुशियों को celebrate करना सीखाये।

इसके लिए सर्वप्रथम Parents को आगे आना चाहिए और स्कूल एवं कॉलेज स्तर पे ऐसे प्रोग्राम शुरू करवाने चाहिए।।

Dowload pdf file of Intro of Addiction

धन्यवाद।।

Open post

Video Post: Inspirational Success Story of HONDA & Mcdonald’S.

Reading Time: 1 minuteHello friends,

These are 2 highly motivated stories of great success personalities.  Find out the secrets behind their success, so do watch these…..

1. THREE REASONS ? HONDA की INSPIRATIONAL SUCCESS STORY ( WORLD’S LARGEST )

2. Mcdonald’S Success Story In Hindi | Ray Kroc Biography | Inspirational & Motivational Video

THANKS A LOT. SHARE IT IF FIND IT USEFUL.

Open post

Inspirational Story of Michael Jordan in Hindi | कैसे मिडल class family का लड़का billionaire बना

Reading Time: 3 minutesFriends, this is a truly inspirational story of a middle class boy who become a billionaire by improving his own value. So keep reading with positive emotions. आज हम उस person की बात करेंगे जो गरीब family से थे लेकिन इन्होने अपनी काबिलियत से सबको लोहा मनवा लिया । ये ओर कोइ नही MICHAEL JORDAN है। Michael Jordan जिनका जन्म 17 February 1963 में Brooklyn, new York सिटी में हुआ था यह झोपड़-पट्टी मै बड़े हुए थे । माइकल आशा करते थे कि उनका जीवन अच्छा हो ।

जब माइकल जॉर्डन 13 साल के हुए तो उनके पापा ने उन्हें use किया हुआ कपड़ा दिया और पूछा की इसकी कीमत कितनी हो सकती है ? तो Michael ने बोला की ये होगा बस 1 डॉलर का, तो उनके पिता ने माइकल से कहा की इसको बेचकर 2 dollar लेकर आ ।

Michael Jordan ने उस कपड़े को अच्छे से धोया, फोल्ड करा, उस टाइम उनके पास इस्त्री तो थी नही तो उन्होंने उस कपड़े को किसी कपड़ो के ढेर के निचे अच्छे से रखा, अब जब कपड़ा सुख चूका था तो अगले दिन ट्रेन स्टेशन के पास गया 6 घण्टे की मेहनत के बाद माइकल को उस कपड़े के 2$ मिले ।

खुशी से घर आया , अब रोज यही सब करता रहा 10 दिन बाद उनके पिता ने माइकल से कहा की इस कपड़े को 20$ में बेचकर दिखा, Michael ने कहा ये कैसे हो सकता है,  इसके 20 dollar कौन देगा, पापा ने कहा try तो कर, अब माइकल ने एक तरकीब सोची , उन्होने अपने दोस्त की मदद ली ओर उस कपड़े पर Mickey Mouse की पेंटिंग बनवाई फिर अमीर बच्चो के स्कूल पहुच गया, एक छोटे से बचे ने इसे पसंद किया और उससे खरीद लिया साथ ही 5$ उसको extra टिप भी दी total 25$ मतलब Michael के पिता की 1 महीने की सैलरी जितना ।

जब माइकल वापस आया तो उसके पापा ने तुरंत एक और कपड़ा हाथ में दे दिया और बोला की इसे 200 डॉलर में बेच के दिखा इस बार Michael अपने पिता से कुछ नही बोला लेकिन ये सोचता रहा कि ये कैसे हो सकता है, फिर उसे ख्याल आया कि उनके सिटी में Movie शूटिंग के लिए एक पोपुलर एक्ट्रेस आई है ।  Michael security को तोड़ते हुए उस एक्ट्रेस के पास तक पहुँच गया और बोला की ऑटोग्राफ दीजिये प्लीज ।

मासूम से बच्चे को देखकर ये एक्ट्रेस मना नही कर पाई और उस एक्ट्रेस ने उस कपड़े पर ऑटोग्राफ कर दिए, उसके बाद माइकल तेज – तेज की चिल्लाने लगा की “फलां ऑटोग्राफ cloth in 200 $” वही औक्सन शुरू हो गया और फाइनली उसने उस कपड़े को 1200 dollar में एक Businessman को बेच दिया ।

आज जब Michael 1200$ लेकर अपने घर पहुँचा तो उसके पिता की खुशी का ठिकाना नही रहा , वो रो पड़े और पूछा, माइकल बेटा ये कपड़े तुम बेच रहे हो इतने दिनों से , क्या सिखा तुमने ? बेटा बोला पापा Whether there is a will there is a way (जहा पर सोच होती है रास्ता अपने आप आ जाता है) पिता ने अपना सर हिलाते हुए कहा कि बिलकुल सही हो लेकिन मेरा लक्ष्य कुछ ओर है।  में तुम्हे बस यही दिखाना चाहता था कि जो कपड़े का टुकड़ा सिर्फ 1$ का था लेकिन अगर हम चाहे तो उसकी कीमत बढा सकते है तो हम हमारी कीमत क्यों नही बढा सकते । हम तो इंसान है सोच सकते है विचार कर सकते है यानि कुछ भी कर सकते है ।

शायद इन्ही शब्दों की वजह से basketball players में से एक सबसे बड़ा नाम बना Michael Jordan है ।

“Michael Jordan is a first athlete in a history to become a billionaire”.

If you like this Post. Do a Share……. Thanks.

Open post

What is An Entrepreneur ?

Reading Time: 1 minuteHi friends,

After long time we are posting here. Today it is about entrepreneur & Startups. These are 3 videos which explain it very well. So do watch these……

All the best.

1. What is An Entrepreneur? – [Hindi] 

2. The 15 Characteristics of Effective Entrepreneurs [ENG]

3. Who is an ENTREPRENEUR ? – AN Energetic Video [HINDI]

IF YOU FIND THIS PAGE USEFUL , SHARE IT…… THANKS.

Posts navigation

1 2
Scroll to top
WhatsApp chat